दैनिक जीवन में कैसे हो सत्ता की साझेदारी

Posted on: Sat, 07/03/2021 - 05:22 By: admin

 वैश्विक महामारी के दौर में जहां एक ओर लोगों का जीवन असुरक्षित हो चुका है वहीं दूसरी ओर दुनिया के कई देशों में ऐसा देखा गया है कि सत्ता का केंद्रीकरण बढ़ रहा है। लोगों के नागरिक अधिकारों को छीना जा रहा हैं और लोकतांत्रिक मूल्यों का ह्रास हो रहा है। इस पृष्ठभूमि में सत्ता की साझेदारी जैसे मुद्दे पर बातचीत की अहमियत और बढ़ जाती है । लोकतांत्रिक राजनीति की दसवीं क्लास की किताब में बच्चों को इस अवधारणा के बारे में पढ़ाया जाता है।

 

Social Science For Social Life

Posted on: Wed, 06/23/2021 - 03:52 By: admin

ज्ञान निर्माण की प्रक्रिया को हमेशा से मानव सभ्यता के लिए आवश्यक माना गया है। हमारी आपसी बात-चीत ज्ञान निर्माण की प्रक्रिया का एक अहम हिस्सा है। आधुनिक समय में ऐसा आसानी से देखा जा सकता है कि 'विशिष्ट ज्ञान' अमूमन यूनिवर्सिटी, कॉलेज और स्कूलों तक सीमित होकर रह जाता है। 

The Indispensability of the Board Exam

Posted on: Thu, 05/27/2021 - 03:26 By: admin

The indispensability of the board exam

 

 

 

Recalling my own experience of appearing in the board exam…

 

It was my 1st time seeing dozens of policemen in uniform with guns. They guarded the examination centre. Police jeeps with sirens kept disturbing the otherwise frightening silence of the examination hall. While we were writing on the answer sheet,  we were startled to hear whistles. Then the stern voice of the invigilator warned us to be alert...flying squads were on the ground, our hands started shivering. 

आन्दोलन के प्रति दुराग्रह आपको लोकतान्त्रिक समाज में नागरिक होने से रोकता है

Posted on: Sat, 02/06/2021 - 04:05 By: admin

आन्दोलन के प्रति दुराग्रह(contempt) आपको लोकतान्त्रिक समाज में नागरिक होने से रोकता है

 

आप एक सूचि बनाइये ! सूचि में उन सभी वस्तुओं, सेवाओं और अवसरों को लिखिए जिसे आप अपने गरिमामयी जीवन के लिए जरुरी मानते हैं|

सहायक शिक्षिका से सहायक प्राध्यापक तक

Posted on: Sat, 01/02/2021 - 02:55 By: admin

सहायक शिक्षिका से सहायक प्राध्यापक तक

By Neeta Batra

आज यह आर्टिकल मैंने SCERT, Delhi में बैठकर लिखा।  जब  लंच से पहले वाले सेशन में  Director SCERT,  Joint Director SCERT, तथा  Principals, DIET के द्वारा मुझे बार-बार असिस्टेंट प्रोफेसर के पद नाम से बुलाया, तो मुझे एक खुशी तथा जोश की लहर का अनुभव हुआ! मन में विचार आया कि जिस तंत्र में मुझे सपोर्ट किया और यहां तक पहुंचने में मदद की है उसका मन से धन्यवाद करना चाहिए। वह सपना जिसे मैंने बचपन से देखा था कि मुझे प्रोफ़ेसर बनना है आज पूरा हुआ ।

Subscribe to