Stories from the grass roots

Who is Atishi Marlena; A Teacher’s perspective

यह वर्ष 2015 की बात है दिल्ली में नई सरकार का गठन हो चुका था और स्कूलों में कुछ हलचल शुरू हो गयी थी। 54 स्कूलों को मॉडल स्कूल बनाने का निर्णय लिया गया और संयोगवस जिस स्कूल में मैं पढ़ा रहा था, वह स्कूल भी मॉडल स्कूल बन गया। इन स्कूलों में एक प्रोग्राम […]

Can men be raped? It’s the time to think about it.

The gory details which are coming out through various narratives related to Kathua rape case, compel us to think that there is no difference among the religious extremist groups of the world when it comes to execute the heinous crimes. Kathua rape case should not be seen with the lense of identity politics, is a […]

I am not a Mentor Teacher,but I want to be.

It was mesmerizing for me to see the insightful observations and comments made by the mentor teachers of Delhi government school in various discussions held at Washington DC during the orientation workshop of teaching excellence and achievement (TEA) program. I could see the awestruck faces of the audience from 40 different countries. The clarity of […]

Can we re-imagine the idea of women empowerment ?

On the occasion of International women’s day,let me bring some observations about the issue of gender equality from the USA. At first sight, you may feel that this is a perfect society, women have equal opportunities. It looks like. And, especially when I compare it to India, I find that there is definitely greater freedom […]

Here,the parents rule

स्कूल रिफॉर्म सीरीज में आज बात करते हैं स्कूल और समुदाय के बीच के संबंध का। ऐसा नहीं है कि हर चीज यहीं आकर मुझे देखने को मिला है,सिर्फ यह फर्क है कि जो बातें हमारे यहां अभी विचारों के स्तर पर है उसको यहां धरातल पर देखा जा सकता है। स्कूल और समुदाय के […]

A teacher is thinking about teacher reform; Is it not a reform?

स्कूल रिफार्म सीरीज के लेख की तरफ एक बार फिर से लौटते हैं। और आज बात करते हैं शिक्षकों के बारे में। अमेरिकी शिक्षक निसंदेह बहुत ही पेशेवर हैं। ज्यादातर शिक्षक अपने काम का आनंद लेते हुए दिखे। और अगर कोई आनंद नहीं भी ले रहे थे तो खूब पढ़ा जरूर रहे थे। क्लास रूम […]

We can learn a lot from Museums.

यहां अभी वीकेंड खत्म नहीं हुआ है,आज रविवार की शाम है यहाँ। शायद यह आखिरी मौका था हम लोगों के पास वाशिंगटन की गलियों में घूमने का वैसे वाशिंगटन की सड़कों को देखकर इसको गली कहने का मन नहीं करता है। हालाँकि, दुनिया में ज्यादातर शहरों को देखने का मौका अभी मुझे नहीं मिला है […]

It’s Baltimore now

वीकेंड के मौके पर स्कूल रिफार्म सीरीज के लेखों से एक ब्रेक लेते हैं और लेकर चलते हैं आपको आज बाल्टिमोर। इस वीकेंड पर मौका था हम लोगों के लिए बाल्टीमोर जाने का। यह एक हार्बर सिटी है। सुंदर साफ सुथरा और देखने में न्यू यॉर्क का छोटा वर्जन लगता है। तस्वीर लेने के लिए […]

Can we stop failing our students?

अगर आप बच्चों से प्यार करते हैं तो अमेरिकी स्कूल में बच्चों के चेहरे पर जो खुशी आपको देखने को मिलती है उसे देखकर आप उत्साहित हुए बिना नहीं रह सकते हैं। ऐसा नहीं है कि यहां चैलेंजिंग बच्चे नहीं हैं, विविधता के लिहाज से तो सबसे ज्यादा विविध यहां की क्लास रूम है। दुनिया […]

Technology in classroom; It’s irresistible

Reform Series का यह तीसरा लेख है | कोशिश है की लेख को 4 अलग -अलग श्रेणियों में विभाजित किया जाये | वे सुधार जिसको तुरंत लाने की जरुरत है, उसे मैंने # Immediate श्रेणी में रखा है इसके अलावा तीन और श्रेणी में मैंने सुधारों को बाँटने की कोशिश की है | और ये […]

Next Page » « Previous Page