Category: Uncategorized

मजबूत सरकारी स्कूल व्यवस्था के गवाह हैं, सिंगापुर के स्कूल।#3

आज का दिन था सिंगापुर के स्कूलों को देखने का l यकीन नहीं होता है कि इतने कम समय में कोई देश अपने यहां के स्कूलों को इतना बेहतरीन कैसे बना सकता है l कोई बहुत गौरवपूर्ण इतिहास नहीं रहा है सिंगापुर का। बहुत ही मुश्किलों का सामना यहाँ के लोगों ने किया। काफी सालों […]

A school Teacher’s Singapore Diary#2

शिक्षा से जुड़े हुए साहित्य को जब भी हम पढ़ते हैं तो पाते हैं कि शिक्षक के लिए कोई खास उत्साह समाज मे कभी नहीं रहा है। आज भी बहुत कुछ नहीं बदल गया है। कितने लोगों को आप अपने आसपास जानते हैं जो शिक्षक बनना चाहते हैं या अपने बच्चों(बेटों) को शिक्षक बनाना चाहते […]

मजबूत लोकतंत्र या मजबूत सरकार

मजबूत लोकतंत्र या मजबूत सरकार यह एक ऐतिहासिक तस्वीर है। आज इस तस्वीर को लेकर मीडिया में काफी चर्चा है। इस तस्वीर को मैं भारत के उन सपनों के तस्वीर से जोड़कर देखता हूं जिसका सपना गांधीजी देखा करते थे और जिसका सपना उस समय भारत को स्वतंत्र करवाने के लिए लड़ रहे हजारों स्वतंत्रता […]

The Teachers’ Minister

The Teachers’ Minister A friend …..Like minded concerned citizen who is a minister’ यह मैसेज माननीय शिक्षा मंत्री जी ने मेरे उस मैसेज के जवाब में लिखा जो गलती से मैंने उन्हें भेज दिया था। दरअसल मैं अपने मित्रों को लिख रहा था ‘Can’t believe just got a call from minister’. हम इस बात से […]

Social character of Learning by Prof Krishna Kumar

Social character of Learning by Prof Krishna Kumar किताब पर चर्चा सीरीज के इस अंक में हम बात कर रहे हैं कृष्ण कुमार द्वारा लिखी गई पुस्तक ‘सोशल कैरेक्टर ऑफ लर्निंग’। किताब को पढ़ते हुए आपको एहसास हो जाएगा कि भारत में शिक्षा के क्षेत्र में विचारकों की कमी नहीं रही है। आप ने अगर […]

Democratic School

Democratic School edited by Michael W. Apple & James A. Beane पुस्तक पर चर्चा सीरीज के सातवें अंक में आज हम बात कर रहे हैं डेमोक्रेटिक स्कूल की। करीब- करीब 144 पेज की किताब इंटरनेट पर उपलब्ध है। एकलव्य नामक संस्था के द्वारा इसे प्रकाशित किया गया है। Michael W. Apple तथा James A. Beane […]

CHILDREN’S MINDS BY MARGARET DONALDSON

CHILDREN’S MINDS BY MARGARET DONALDSON मेरे लिए यह साइकॉलजी की पहली किताब है जिसको मैंने इतना रुचि लेकर पढ़ा। B.ED, M.ED मे कोर्स का हिस्सा होने के कारण मैंने साइकॉलजी पहले भी पढ़ा है लेकिन जैसा कि मैंने लिखा है वह सिर्फ इसलिए क्योंकि वह कोर्स का हिस्सा था। लिखते हुए मुझे याद आ रहा […]

Next Page »